सारंगढ़

सिंघल क्रेशर को मिला है अफसरी अभयदान…पढ़े पूरी खबर

डमरुआ डेस्क।।सारंगढ़-बिलाईगढ़ जिले के टीमरलगा स्थित सिंघल क्रेशर उद्योग को संचालक नियम विरुद्ध संचालित करने का अमलीजामा पहना रखा है। यहां शासन को राजश्व क्षति के साथ एनजीटी के नियमो का उलंघन बेबाक तरीके से किया जा रहा है।ऐसे में जिम्मेदार अफसरों की खामोशी कई सवाल खड़े कर रहे है।

सूत्रों के मुताबिक सिंघल क्रेशर के संचालक गुडेली से अवैध पत्थर लेकर गिट्टी बना रहा है तथा उसे वैध बनाने के लिए फर्जी रॉयलटी पर्ची जारी कर रहा है,सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक पर्यावरण अधिकारी और मांइनिंग विभाग से सांठगांठ कर नियम विरुद्ध क्रेशर का संचालन धड़ल्ले से किया जा रहा है ।

दीवाली गिफ्ट देकर जिम्मेदारों की कर दी मुह बंद

हमारे विश्वसनीय सूत्रों का दावा है कि सिंघल क्रेशर का संचालक जिम्मेदार अफसरों को दीवाली में महंगी गिफ्ट देकर खुस कर दिया है जिसके चलते क्रेशर की जांच तो दूर यहां निरीक्षण करने अफसर जाने को तैयार नही है ।सूत्र बताते है कि हाल फील दिनों पहले सिंघल क्रेशर के संचालक को किन्ही साहब ने अपने कार्यलय तलब किया था जहां उससे लंबी चौड़ी सेटिंग हुई है और उसी सेटिंग के चलते साहब सिंघल क्रेशर की जांच करने का हिमाकत नही कर रहे है ।

ये हैं क्रेशर संचालन के नियम लेकिन पालन नही

जहां पर क्रेशर संचालित है उस क्षेत्र के तीन ओर बड़ी दीवार होना चाहिए। पर्यावरण सुरक्षा की दृष्टि से सघन पौधरोपण क्षेत्र में होना अनिवार्य है। नियम के तहत स्टोन क्रेशर में सुबह और शाम सिंचाई होना अनिवार्य है, जिससे डस्ट न उड़े।बावजूद इसके किसी भी मानक अनिवार्य नियमो का पालन सिंघल क्रेशर में नही किया जा रहा है ।लिहाजा एनजीटी के कड़े नियमावली को दर कीनार कर सिंघल क्रेशर का संचालक बे रोक टोक किया जा रहा है ।

To be continew….

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
×

Powered by WhatsApp Chat

×