टॉप न्यूज़देशभूकंप

चेन्नई एयरपोर्ट के रनवे पर भी भरा पानी , Cyclone Michaung का कई राज्यों में असर…

डमरुआ डेस्क/ आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और पुड्डुचेरी के तटीय इलाकों में आसमान में काले बादलों का घेरा है. कई इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश तो बीते 3-4 दिन से हो हो रही है लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि आज और कल का दिन तूफान मिचौंग के चलते काफी भारी रहने वाला है, लिहाजा सरकार और प्रशासन अलर्ट है. आम लोगों को भी सावधान रहने और एहतियात बरतने की सलाह दी जा रही है.

तूफान के असर से चेन्नई के तटीय इलाकों में तेज हवाएं चलने के साथ भारी बारिश हो रही है. मूसलाधार बारिश के कारण चेन्नई एयरपोर्ट के रवने एवं सबवे सब पानी- पानी हो गए हैं. जिसके चलते फ्लाइट्स प्रभावित हैं. वीडियो में देखें चेन्नई एयरपोर्ट पर बारिश से बुरा हाल

IMD के मुताबिक, उत्तरी तमिलनाडु के कई जिलों में आज भी भारी बारिश होने की संभावना है इसलिए आम लोगों को घरों में ही रहने की सलाह दी गई है. आंध्र प्रदेश राज्य आपदा प्रबंधन एजेंसी ने खुलासा किया कि चक्रवात मिचौंग 13 किमी प्रति घंटे की गति से दक्षिण-पश्चिम बंगाल की खाड़ी में उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ रहा है…

इन इलाकों पर असर

तूफ़ान के असर से आज और कल भी कई जगहों पर हल्की से मध्यम बारिश हो रही है. कुछ जगहों पर भारी से बहुत भारी बारिश हो रही है और कुछ जगहों पर बहुत भारी बारिश हो रही है. रायलसीमा में जगह-जगह मध्यम बारिश हो रही है.  एलुंडी और उत्तरांध्र में कहीं-कहीं भारी बारिश होने की संभावना है. तट पर 80-100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं और शाम को इनकी रफ्तार बढ़कर 90-110 किमी प्रति घंटे तक पहुंच सकती हैं. आंध्र प्रदेश राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने मछुआरों को समुद्र में शिकार न करने की सलाह दी है.

प्रशासन अलर्ट

आंध्र और तमिलनाडु के कई जिलों में तूफान का असर पड़ सकता है, इसलिए प्रशासन ने लोगों के राहत-बचाव के इंतजाम कर रखे हैं. निचले इलाकों में रहनेवाले लोगों को सुरक्षित इलाकों में पहुंचा दिया गया है. तूफान के असर वाले इलाकों में बोट और दूसरे जरूरी इंतजाम किए गए हैं. चेन्नई, तिरुवल्लूर, कांचीपुरम और चेंगलपट्टू में आज सार्वजनिक छुट्टी है. लोगों की सुविधा के लिए चेन्नई मेट्रो के शेड्यूल में बदलाव किया गया है. प्राइवेट कंपनियों को अपने कर्मचारियों को Work From Home सुविधा देने को कहा गया है. तटीय इलाकों में राहत के लिए 121 मल्टीपरपज सेंटर बनाए गए हैं, साथ ही 4,967 राहत कैंप भी बनाए गए हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
×

Powered by WhatsApp Chat

×