जशपुरटॉप न्यूज़

मतगणना सुपरवाइजर, मतगणना सहायक का प्रशिक्षण आयोजित

डाक मत पत्रों एवं ईवीएम से मतों की गणना की बारीकियों का विस्तार से दी गई जानकारी
मतगणना केंद्र में मोबाइल पूर्णतः रहेगा प्रतिबंधित

डमरुआ न्युज/जशपुरनगर- विधानसभा निर्वाचन 2023 को सफलतापूर्वक एवं निष्पक्ष ढंग से संपन्न कराने हेतु मतगणना के तैयारी एवं मतगणना की प्रक्रिया की जानकारी देने हेतु मतगणना कर्मियों गणना पर्यवेक्षक, गणना सहायकों का प्रशिक्षण जिला पंचायत सभाकक्ष में आयोजित किया गया। जिला स्तरीय मास्टर ट्रेनर प्रोफेसर डी आर राठिया, प्रोफेसर टी आर पाटले, प्रोफेसर एस के मारकंडे द्वारा बताया गया कि निर्वाचन की प्रक्रिया में मतगणना का कार्य बेहद महत्वपूर्ण एवं संवेदनशील कार्य है। मतगणना का पूरा कार्य रिटर्निंग ऑफिसर के निर्देशन एवं निगरानी में होता है। डाक मत पत्रों एवं ईवीएम से मतों की गणना कैसे की जाती है के संबंध में मास्टर ट्रेनर द्वारा विस्तार से जानकारी दी गई। अपर कलेक्टर आई एल ठाकुर, रिटर्निंग ऑफिसर प्रशांत कुशवाहा के द्वारा आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए।

जिला जशपुर के तीनों विधानसभा क्षेत्र जशपुर, कुनकुरी, पत्थलगांव का मतगणना शासकीय मॉडल स्कूल जशपुर में 03 दिसंबर को की जाएगी। मतगणना केंद्र पर नियुक्त सभी गणना कर्मचारी, अभ्यर्थी, निर्वाचन अभिकर्ता, गणन अभिकर्ता को मोबाइल, इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस ले जाना निषेध है। मतगणना स्थल में प्रवेश के पूर्व सभी व्यक्तियों की सघन चेकिंग की जाएगी। मतगणना केंद्र में जिला निर्वाचन अधिकारी, रिटर्निंग ऑफिसर द्वारा जारी फोटो युक्त पहचान पत्र के आधार पर प्रवेश दिया जाएगा। मतगणना का कार्य एक बड़े मतगणना हॉल में संपन्न होगा जिसमें मशीनों से मतों की गणना हेतु कुल 14 टेबल लगाए जाएंगे। प्रत्येक गणना टेबल पर गणना का कार्य मतगणना दल द्वारा किया जाएगा जिसमें एक गणना पर्यवेक्षक एक गणना सहायक और एक माइक्रो आब्जर्वर (निगरानी हेतु) रहेंगे। निर्वाचन आयोग द्वारा नियत समय 08ः00 बजे प्रातः से डाक मतपत्र मतगणना प्रारंभ होगा एव 8.30बजे ईवीएम से मतों की गणना की जाएगी।

मास्टर ट्रेनर द्वारा मतगणना कर्मियों को डाक मत पत्र गणना की प्रक्रिया को विस्तार पूर्वक बतलाया गया। उन्हें यह भी बताया गया की डाक मतपत्र किन-किन कारणों से खारिज किए जाते और डाक मतपत्रों की संवीक्षा किस प्रकार किया जाता है। सभी गणना कर्मियों को ई.व्ही.एम. से मतों की गणना के बारे में पीपीटी के माध्यम से विस्तार से बताया गया। प्रशिक्षण के अंत में व्ही. व्ही. पेट के पेपर पर्चियों के गणना के बारे में जानकारी दी गई।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
×

Powered by WhatsApp Chat

×